Abhilasha by Premchand Munshi in Mansarovar Part 4

abhilasha-premchand-munshi-mansarovar-part4-shortstoriescoin-image
Part 9 of total 9 stories in series Mansarovar Part 4.
  

कल पड़ोस में बड़ी हलचल मची। एक पानवाला अपनी स्त्री को मार रहा था। वह बेचारी बैठी रो रही थी, पर उस निर्दयी को उस पर लेशमात्र भी दया न आती थी। आखिर स्त्री को भी क्रोध आ गया। उसने खड़े होकर कहा, बस, अब मारोगे, तो ठीक न होगा। आज से मेरा तुझसे कोई संबंध नहीं।

Continue Reading

Lankakand – Ravana Kicks Out Vibhishana

Ravan-kicks-out-vibhishan-ramayana-hindi-shortstoriescoin-image
Part 94 of total 94 stories in series Ramayana in Hindi.
  

दूसरे दिन महान मेघों की गर्जना के समान घरघराहट पैदा करने वाले मणियों से अलंकृत चार घोड़ों से युक्त स्वर्ण-रथ पर आरूढ़ हो रावण अपने सभा भवन की ओर चला। भाँति-भाँति के अस्त्र-शस्त्रों से सुसज्जित राक्षस सैनिक उसके आगे-पीछे उसकी जयजयकार करते हुये चले। मार्ग में लोग शंखों और नगाड़ों के तुमुलनाद से सम्पूर्ण वातावरण को गुँजायमान कर रहे थे।

Continue Reading