Lankakand – Ram Laksham in Bond

ram-lakshman-nag-pash-ramayana-hindi-shortstoriescoin-image

इस प्रकार से युद्ध चल ही रहा था कि सूर्यदेव अस्त हो गये तथा प्राणों का संहार करने वाली रात्रि का आगमन हो गया। दोनों पक्ष के योद्धा बड़े भयंकर थे तथा अपनी-अपनी विजय चाहते थे; अतः उनके मध्य रात्रियुद्ध होने लगा। दोनों पक्ष के मध्य घनघोर युद्ध मच गया, ‘मारो-मारो’, ‘काटो-काटो’ …

Continue reading →