Category: Hindi

On this page we will publish short stories in Hindi for our Indian readers. Hindi is national language of India. By considering our huge traffic from India we are availing short stories in Hindi exclusively for our Indian readers.


Demonstration by Premchand Munshi

demonstration-premchand-munshi-mansarovar-part4-shortstoriescoin-image
Part 7 of total 7 stories in series Mansarovar Part 4.
  

महाशय गुरुप्रसादजी रसिक जीव हैं, गाने-बजाने का शौक है, खाने-खिलाने का शौक है और सैर-तमाशे का शौक है; पर उसी मात्र में द्रव्योपार्जन का शौक नहीं है। यों वह किसी के मुँहताज नहीं हैं, भले आदमियों की तरह हैं और हैं भी भले आदमी; मगर किसी काम में चिमट नहीं सकते।

Continue Reading

Lankakand – The Army of Monkeys

Part 92 of total 92 stories in series Ramayana in Hindi.
  

हनुमान के मुख से लंका का यह विशद वर्णन सुन कर रामचन्द्र बोले, “हनुमान! तुमने भयानक राक्षस रावण की जिस लंकापुरी का वर्णन किया है, उसे मैं शीघ्र ही नष्ट कर डालूँगा। सुग्रीव! अभी विजय नामक मुहूर्त है और इस मुहूर्त में प्रस्थान करना अत्यन्त उपयुक्त है। अतः तुम तत्काल प्रस्थान की तैयारी करो।

Continue Reading

Tagada by Premchand Munshi

tagada-by-mansarovar-stories-premchand-munshi-hindi
Part 6 of total 7 stories in series Mansarovar Part 4.
  

सेठ चेतराम ने स्नान किया, शिवजी को जल चढ़ाया, दो दाने मिर्च चबाये, दो लोटे पानी पिया और सोटा लेकर तगादे पर चले। सेठजी की उम्र कोई पचास की थी। सिर के बाल झड़ गये थे और खोपड़ी ऐसी साफ-सुथरी निकल आई थी, जैसे ऊसर खेत।

Continue Reading

Sabhyata Ka Rahasya by Premchand Munshi

sabhyata-ka-rahasya-premchand-munshi-hindi-stories-image
Part 5 of total 7 stories in series Mansarovar Part 4.
  

यों तो मेरी समझ में दुनिया की एक हजार एक बातें नहीं आती—जैसे लोग प्रात:काल उठते ही बालों पर छुरा क्यों चलाते हैं ? क्या अब पुरुषों में भी इतनी नजाकत आ गयी है कि बालों का बोझ उनसे नहीं सँभलता ? एक साथ ही सभी पढ़े-लिखे आदमियों की आँखें क्यों इतनी कमजोर हो गयी है ?

Continue Reading

Lankakand – How to Cross the Sea?

lankakand-pooja-cross-sea-ramayana-hindi-shortstories-image
Part 91 of total 92 stories in series Ramayana in Hindi.
  

हनुमान के मुख से सीता का समाचार पाकर रामचन्द्र जी अत्यन्त प्रसन्न हुये और कहने लगे, “हनुमान ने बहुत भारी कार्य किया है भूतल पर ऐसा कार्य होना कठिन है। इस महासागर को लाँघ सकने की क्षमता गरुड़, वायु और हनुमान को छोड़कर किसी दूसरे में नहीं है।

Continue Reading

Darogaji by Premchand Munshi

daroga-ji-premchand-munshi-hindi-shortstories-image
Part 4 of total 7 stories in series Mansarovar Part 4.
  

कल शाम को एक जरूरत से तांगे पर बैठा हुआ जा रहा था कि रास्ते में एक और महाशय तांगे पर आ बैठे। तांगेवाला उन्हें बैठाना तो न चाहता था, पर इनकार भी न कर सकता था। पुलिस के आदमी से झगड़ा कौनमोल ले। यह साहब किसी थाने के दारोगा थे।

Continue Reading
1 2 3 37

Pin It on Pinterest