Category: Hindi

On this page we will publish short stories in Hindi for our Indian readers. Hindi is national language of India. By considering our huge traffic from India we are availing short stories in Hindi exclusively for our Indian readers.


Sadgati

Part 2 of total 2 stories in series Mansarovar Part 4.
  

दुखी चमार द्वार पर झाडू लगा रहा था और उसकी पत्नी झुरिया, घर को गोबर से लीप रही थी। दोनों अपने-अपने काम से फुर्सत पा चुके थे, तो चमारिन ने कहा, ‘तो जाके पंडित बाबा से कह आओ न। ऐसा न हो कहीं चले जायँ।‘

Continue Reading

Sundarkand – Hanuman Fights with the Daemons

Part 87 of total 87 stories in series Ramayana in Hindi.
  

सीता से विदा ले कर जब हनुमान चले तो वे सोचने लगे कि जानकी का पता तो मैंने लगा लिया, उनको रामचन्द्र जी का संदेश देने के अतिरिक्त उनसे भी राघव के लिये संदेश प्राप्त कर लिया। अब शत्रु की शक्ति का भी ज्ञात कर लेना चाहिये।

Continue Reading

Do Kabren by Premchand Munshi

Part 1 of total 2 stories in series Mansarovar Part 4.
  

अब न वह यौवन है, न वह नशा, न वह उन्माद। वह महफिल उठ गई, वह दीपक बुझ गया, जिससे महफिल की रौनक थी। वह प्रेममूर्ति कब्र की गोद में सो रही है। हाँ, उसके प्रेम की छाप अब भी ह्रदय पर है और उसकी अमर स्मृति आँखों के सामने।

Continue Reading

Sundarkand – Hanuman in Ashokvatika

Part 80 of total 87 stories in series Ramayana in Hindi.
  

हनुमान जी सीता की खोज के अपने निश्चय पर अडिग हो गये। उन्होंने प्रण कर लिया कि जब तक मैं यशस्विनी श्री रामपत्नी सीता का दर्शन न कर लूँगा तब तक इस लंकापुरी में बारम्बार उनकी खोज करता ही रहूँगा। इधर यह अशोकवाटिका दृष्टिगत हो रही है जिसके भीतर अनेक विशाल वृक्ष हैं।

Continue Reading

Decree Ke Rypaye by Premchand Munshi

Part 30 of total 30 stories in series Mansarovar Part 3.
  

नईम और कैलास में इतनी शारीरिक, मानसिक, नैतिक और सामाजिक अभिन्नता थी, जितनी दो प्राणियों में हो सकती है। नईम दीर्घकाय विशाल वृक्ष था, कैलास बाग का कोमल पौधा; नईम को क्रिकेट और फुटबाल, सैर और शिकार का व्यसन था, कैलास को पुस्तकावलोकन का;

Continue Reading

Sundarkand – Hanuman Showing His Great Avatar to Sita

Part 86 of total 87 stories in series Ramayana in Hindi.
  

वानरश्रेष्ठ हनुमान के मुख से यह अद्भुत वचन सुनकर सीता जी ने विस्मयपूर्वक कहा, “वानरयूथपति हनुमान! तुम्हारा शरीर तो छोटा है तुम इतनी दूरी वाले मार्ग पर मुझे कैसे ले जा सकोगे? तुम्हारे इस दुःसाहस को मैं वानरोचित चपलता ही समझती हूँ।”

Continue Reading
1 2 3 35