Category: Mansarovar Part 4

Mansarovar is collection of short stories by Premchand Munshi, the legendary author of hindi literature. The Mansarovar compiled into eight volumes, this is the fourth volume amongst the collection.


Abhilasha by Premchand Munshi in Mansarovar Part 4

abhilasha-premchand-munshi-mansarovar-part4-shortstoriescoin-image
Part 9 of total 9 stories in series Mansarovar Part 4.
  

कल पड़ोस में बड़ी हलचल मची। एक पानवाला अपनी स्त्री को मार रहा था। वह बेचारी बैठी रो रही थी, पर उस निर्दयी को उस पर लेशमात्र भी दया न आती थी। आखिर स्त्री को भी क्रोध आ गया। उसने खड़े होकर कहा, बस, अब मारोगे, तो ठीक न होगा। आज से मेरा तुझसे कोई संबंध नहीं।

Continue Reading

Smriti Ka Pujari by Premchand Munshi

smriti-ka-pujari-premchand-munshi-shortstoriescoin-image
Part 8 of total 9 stories in series Mansarovar Part 4.
  

महाशय होरीलाल की पत्नी का जब से देहान्त हुआ वह एक तरह से दुनिया से विरक्त हो गये हैं। यों रोज कचहरी जाते हैं अब भी उनकी वकालत बुरी नहीं है। मित्रों से राह-रस्म भी रखते हैं, मेलों-तमाशों में भी जाते हैं; पर इसलिए कि वे भी मनुष्य हैं और मनुष्य एक सामाजिक जीव है।

Continue Reading

Demonstration by Premchand Munshi

demonstration-premchand-munshi-mansarovar-part4-shortstoriescoin-image
Part 7 of total 9 stories in series Mansarovar Part 4.
  

महाशय गुरुप्रसादजी रसिक जीव हैं, गाने-बजाने का शौक है, खाने-खिलाने का शौक है और सैर-तमाशे का शौक है; पर उसी मात्र में द्रव्योपार्जन का शौक नहीं है। यों वह किसी के मुँहताज नहीं हैं, भले आदमियों की तरह हैं और हैं भी भले आदमी; मगर किसी काम में चिमट नहीं सकते।

Continue Reading

Tagada by Premchand Munshi

tagada-by-mansarovar-stories-premchand-munshi-hindi
Part 6 of total 9 stories in series Mansarovar Part 4.
  

सेठ चेतराम ने स्नान किया, शिवजी को जल चढ़ाया, दो दाने मिर्च चबाये, दो लोटे पानी पिया और सोटा लेकर तगादे पर चले। सेठजी की उम्र कोई पचास की थी। सिर के बाल झड़ गये थे और खोपड़ी ऐसी साफ-सुथरी निकल आई थी, जैसे ऊसर खेत।

Continue Reading

Sabhyata Ka Rahasya by Premchand Munshi

sabhyata-ka-rahasya-premchand-munshi-hindi-stories-image
Part 5 of total 9 stories in series Mansarovar Part 4.
  

यों तो मेरी समझ में दुनिया की एक हजार एक बातें नहीं आती—जैसे लोग प्रात:काल उठते ही बालों पर छुरा क्यों चलाते हैं ? क्या अब पुरुषों में भी इतनी नजाकत आ गयी है कि बालों का बोझ उनसे नहीं सँभलता ? एक साथ ही सभी पढ़े-लिखे आदमियों की आँखें क्यों इतनी कमजोर हो गयी है ?

Continue Reading

Darogaji by Premchand Munshi

daroga-ji-premchand-munshi-hindi-shortstories-image
Part 4 of total 9 stories in series Mansarovar Part 4.
  

कल शाम को एक जरूरत से तांगे पर बैठा हुआ जा रहा था कि रास्ते में एक और महाशय तांगे पर आ बैठे। तांगेवाला उन्हें बैठाना तो न चाहता था, पर इनकार भी न कर सकता था। पुलिस के आदमी से झगड़ा कौनमोल ले। यह साहब किसी थाने के दारोगा थे।

Continue Reading