Category: Ramayana in Hindi

The Ramayana is one of the great Hindu epics. It is ascribed to the Hindu sage Valmiki and forms an important part of the Hindu literature (smṛti). It depicts the duties of relationships, portraying ideal characters like the ideal father, the ideal servant, the ideal brother, the ideal wife, and the ideal king.
Now enjoy Ramayana in Hindi.


Sundarkand – Hanuman Fights with the Daemons

Part 87 of total 87 stories in series Ramayana in Hindi.
  

सीता से विदा ले कर जब हनुमान चले तो वे सोचने लगे कि जानकी का पता तो मैंने लगा लिया, उनको रामचन्द्र जी का संदेश देने के अतिरिक्त उनसे भी राघव के लिये संदेश प्राप्त कर लिया। अब शत्रु की शक्ति का भी ज्ञात कर लेना चाहिये।

Continue Reading

Sundarkand – Hanuman in Ashokvatika

Part 80 of total 87 stories in series Ramayana in Hindi.
  

हनुमान जी सीता की खोज के अपने निश्चय पर अडिग हो गये। उन्होंने प्रण कर लिया कि जब तक मैं यशस्विनी श्री रामपत्नी सीता का दर्शन न कर लूँगा तब तक इस लंकापुरी में बारम्बार उनकी खोज करता ही रहूँगा। इधर यह अशोकवाटिका दृष्टिगत हो रही है जिसके भीतर अनेक विशाल वृक्ष हैं।

Continue Reading

Sundarkand – Hanuman Showing His Great Avatar to Sita

Part 86 of total 87 stories in series Ramayana in Hindi.
  

वानरश्रेष्ठ हनुमान के मुख से यह अद्भुत वचन सुनकर सीता जी ने विस्मयपूर्वक कहा, “वानरयूथपति हनुमान! तुम्हारा शरीर तो छोटा है तुम इतनी दूरी वाले मार्ग पर मुझे कैसे ले जा सकोगे? तुम्हारे इस दुःसाहस को मैं वानरोचित चपलता ही समझती हूँ।”

Continue Reading

Sundarkand – The Conversation of Patience between Hanuman and Sita

Part 85 of total 87 stories in series Ramayana in Hindi.
  

पति के हाथ को सुशोभित करने वाली उस मुद्रिका को लेकर सीता जी उसे ध्यानपूर्वक देखने लगीं। उसे देखकर जानकी जी को इतनी प्रसन्नता हुई मानो स्वयं उनके पतिदेव ही उन्हें मिल गये हों। उनका लाल, सफेद और विशाल नेत्रों से युक्त मनोहर मुख हर्ष से खिल उठा, मानो चन्द्रमा राहु के ग्रण से मुक्त हो गया हो।

Continue Reading

Sundarkand – Hanuman Gives Mudrika to Sita

Part 84 of total 87 stories in series Ramayana in Hindi.
  

सीता के वचन सुनकर वानरशिरोमणि हनुमान जी ने उन्हें सान्त्वना देते हुए कहा, “देवि! मैं श्री रामचन्द्र का दूत हनुमान हूँ और आपके लिये सन्देश लेकर आया हूँ। विदेहनन्दिनी! श्री रामचन्द्र और लक्ष्मण सकुशल हैं और उन्होंने आपका कुशल-समाचार पूछा है।

Continue Reading

Sundarkand – Hanuman Meets Sita

Part 83 of total 87 stories in series Ramayana in Hindi.
  

पराक्रमी हनुमान जी विचार करने लगे कि सीता का अनुसंधान करते करते मैंने गुप्तरूप से शत्रु की शक्ति का पता लगा लिया है तथा राक्षसराज रावण के प्रभाव का भी निरीक्षण भी कर लिया है। जिन सीता जी को हजारों-लाखों वानर समस्त दिशाओं में ढूँढ रहे हैं, आज उन्हें मैंने पा लिया है।

Continue Reading
1 2 3 15