Category: Ramayana in Hindi

The Ramayana is one of the great Hindu epics. It is ascribed to the Hindu sage Valmiki and forms an important part of the Hindu literature (smṛti). It depicts the duties of relationships, portraying ideal characters like the ideal father, the ideal servant, the ideal brother, the ideal wife, and the ideal king.
Now enjoy Ramayana in Hindi.


Lankakand – The Construction of Ram Setu

lankakand-construction-ram-setu-ramayana-hindi-shortstoriescoin-image
Part 95 of total 95 stories in series Ramayana in Hindi.
  

वानरसेना के समक्ष विशाल समुद्र लहरें मार रहा था और उसे पार करना एक बहुत बड़ी समस्या थी। राम के क्रोध से भयभीत होकर समुद्र ने स्वयं वहाँ आकर बताया कि सुग्रीव की सेना में नल और नील कुशल शिल्पी हैं। उनके नेतृत्व में समुद्र पर सेतु बाँधना सम्भव हो सकेगा। इतना बताकर समुद्र वापस चले गये।

Continue Reading

Lankakand – Vibhishan in front of Rama

vibhishana-infront-ram-ramayana-hindi-shortstoriescoin-image

रावण से अपमानित होकर विभीषण अपने चार भयंकर तथा पराक्रमी अनुचरों के साथ आकाशमार्ग से दो ही घड़ी में उस स्थान पर आ गये जहाँ लक्ष्मण सहित श्री राम विराजमान थे। बुद्धिमान महापुरुष विभीषण ने आकाश में ही स्थित रहकर सुग्रीव तथा अन्य वानरों …

Continue Reading

Lankakand – Ravana Kicks Out Vibhishana

Ravan-kicks-out-vibhishan-ramayana-hindi-shortstoriescoin-image
Part 94 of total 95 stories in series Ramayana in Hindi.
  

दूसरे दिन महान मेघों की गर्जना के समान घरघराहट पैदा करने वाले मणियों से अलंकृत चार घोड़ों से युक्त स्वर्ण-रथ पर आरूढ़ हो रावण अपने सभा भवन की ओर चला। भाँति-भाँति के अस्त्र-शस्त्रों से सुसज्जित राक्षस सैनिक उसके आगे-पीछे उसकी जयजयकार करते हुये चले। मार्ग में लोग शंखों और नगाड़ों के तुमुलनाद से सम्पूर्ण वातावरण को गुँजायमान कर रहे थे।

Continue Reading

Lankakand – The Discussion of Daemons in Lanka

Part 93 of total 95 stories in series Ramayana in Hindi.
  

इन्द्रतुल्य पराक्रमी हनुमान जी ने लंका में जो अत्यन्त भयावह घोर कर्म किया था, उसे देखकर राक्षसराज रावण को बड़ी लज्जा और ग्लानि हुई। उसने समस्त प्रमुख राक्षसों को बुला कर कहा, “निशाचरों! एकमात्र वानर हनुमान अकेला इस दुधुर्ष पुरी में घुस आया। उसने इसे तहस-नहस कर डाला और जनककुमारी सीता से भेंट भी कर लिया।

Continue Reading

Lankakand – The Army of Monkeys

Part 92 of total 95 stories in series Ramayana in Hindi.
  

हनुमान के मुख से लंका का यह विशद वर्णन सुन कर रामचन्द्र बोले, “हनुमान! तुमने भयानक राक्षस रावण की जिस लंकापुरी का वर्णन किया है, उसे मैं शीघ्र ही नष्ट कर डालूँगा। सुग्रीव! अभी विजय नामक मुहूर्त है और इस मुहूर्त में प्रस्थान करना अत्यन्त उपयुक्त है। अतः तुम तत्काल प्रस्थान की तैयारी करो।

Continue Reading

Lankakand – How to Cross the Sea?

lankakand-pooja-cross-sea-ramayana-hindi-shortstories-image
Part 91 of total 95 stories in series Ramayana in Hindi.
  

हनुमान के मुख से सीता का समाचार पाकर रामचन्द्र जी अत्यन्त प्रसन्न हुये और कहने लगे, “हनुमान ने बहुत भारी कार्य किया है भूतल पर ऐसा कार्य होना कठिन है। इस महासागर को लाँघ सकने की क्षमता गरुड़, वायु और हनुमान को छोड़कर किसी दूसरे में नहीं है।

Continue Reading
1 2 3 17