Tag: Hindi

Short stories in the national language of India. India is great country and Indians are fond of short stories. So we decided to publish great collection of short stories in Hindi. Read different collections of short stories in Hindi here.


Prem Ka Hridaya

prem-ka-hridaya-premchand-munshi-shortstories-image
Part 3 of total 3 stories in series Mansarovar Part 4.
  

भोंदू पसीने में तर, लकड़ी का एक गट्ठा सिर पर लिए आया और उसे जमीन पर पटककर बंटी के सामने खड़ा हो गया, मानो पूछ रहा हो ‘क्या अभी तेरा मिजाज ठीक नहीं हुआ ? ‘

Continue Reading

Sundarkand – Hanuman in front of Ravana

Part 89 of total 89 stories in series Ramayana in Hindi.
  

हनुमान रावण के भव्य दरबार को विश्लेषणात्मक दृष्टि से देखने लगे। रावण का ऐश्वर्य अद्भुत था। वे सोचने लगे, अद्भुत रूप और आश्चर्यजनक तेज का स्वामी राजोचित लक्षणों से युक्त रावण में यदि प्रबल अधर्म न होता तो यह राक्षसराज इन्द्रसहित सम्पूर्ण देवलोक का संरक्षक हो सकता था।

Continue Reading

Sundarkand – Hanuman Fights with the Meghnad

Part 88 of total 89 stories in series Ramayana in Hindi.
  

जम्बुवाली के वध का समाचार पाकर निशाचरराज रावण को बहत क्रोध आया। उसने सात मन्त्रिपुत्रों को और पाँच बड़े-बड़े नायकों को बुला कर आज्ञा दी कि उस दुष्ट वानर को जीवित या मृत मेरे सम्मुख उपस्थित करो।

Continue Reading

Sadgati

Part 2 of total 3 stories in series Mansarovar Part 4.
  

दुखी चमार द्वार पर झाडू लगा रहा था और उसकी पत्नी झुरिया, घर को गोबर से लीप रही थी। दोनों अपने-अपने काम से फुर्सत पा चुके थे, तो चमारिन ने कहा, ‘तो जाके पंडित बाबा से कह आओ न। ऐसा न हो कहीं चले जायँ।‘

Continue Reading

Sundarkand – Hanuman Fights with the Daemons

Part 87 of total 89 stories in series Ramayana in Hindi.
  

सीता से विदा ले कर जब हनुमान चले तो वे सोचने लगे कि जानकी का पता तो मैंने लगा लिया, उनको रामचन्द्र जी का संदेश देने के अतिरिक्त उनसे भी राघव के लिये संदेश प्राप्त कर लिया। अब शत्रु की शक्ति का भी ज्ञात कर लेना चाहिये।

Continue Reading

Do Kabren by Premchand Munshi

Part 1 of total 3 stories in series Mansarovar Part 4.
  

अब न वह यौवन है, न वह नशा, न वह उन्माद। वह महफिल उठ गई, वह दीपक बुझ गया, जिससे महफिल की रौनक थी। वह प्रेममूर्ति कब्र की गोद में सो रही है। हाँ, उसके प्रेम की छाप अब भी ह्रदय पर है और उसकी अमर स्मृति आँखों के सामने।

Continue Reading
1 2 3 35