Tag: Hindi

Short stories in the national language of India. India is great country and Indians are fond of short stories. So we decided to publish great collection of short stories in Hindi.

Decree Ke Rypaye by Premchand Munshi

Part 30 of total 30 stories in series Mansarovar Part 3.
  

नईम और कैलास में इतनी शारीरिक, मानसिक, नैतिक और सामाजिक अभिन्नता थी, जितनी दो प्राणियों में हो सकती है। नईम दीर्घकाय विशाल वृक्ष था, कैलास बाग का कोमल पौधा; नईम को क्रिकेट और फुटबाल, सैर और शिकार का व्यसन था, कैलास को पुस्तकावलोकन का;

Sundarkand – Hanuman Showing His Great Avatar to Sita

Part 85 of total 85 stories in series Ramayana in Hindi.
  

वानरश्रेष्ठ हनुमान के मुख से यह अद्भुत वचन सुनकर सीता जी ने विस्मयपूर्वक कहा, “वानरयूथपति हनुमान! तुम्हारा शरीर तो छोटा है तुम इतनी दूरी वाले मार्ग पर मुझे कैसे ले जा सकोगे? तुम्हारे इस दुःसाहस को मैं वानरोचित चपलता ही समझती हूँ।”

Sundarkand – The Conversation of Patience between Hanuman and Sita

Part 84 of total 85 stories in series Ramayana in Hindi.
  

पति के हाथ को सुशोभित करने वाली उस मुद्रिका को लेकर सीता जी उसे ध्यानपूर्वक देखने लगीं। उसे देखकर जानकी जी को इतनी प्रसन्नता हुई मानो स्वयं उनके पतिदेव ही उन्हें मिल गये हों। उनका लाल, सफेद और विशाल नेत्रों से युक्त मनोहर मुख हर्ष से खिल उठा, मानो चन्द्रमा राहु के ग्रण से मुक्त हो गया हो।

Sundarkand – Hanuman Gives Mudrika to Sita

Part 83 of total 85 stories in series Ramayana in Hindi.
  

सीता के वचन सुनकर वानरशिरोमणि हनुमान जी ने उन्हें सान्त्वना देते हुए कहा, “देवि! मैं श्री रामचन्द्र का दूत हनुमान हूँ और आपके लिये सन्देश लेकर आया हूँ। विदेहनन्दिनी! श्री रामचन्द्र और लक्ष्मण सकुशल हैं और उन्होंने आपका कुशल-समाचार पूछा है।

Bhade Ka Tatto by Premchand Munshi

Part 29 of total 30 stories in series Mansarovar Part 3.
  

आगरा कालेज के मैदान में संध्या-समय दो युवक हाथ से हाथ मिलाये टहल रहे थे। एक का नाम यशवंत था, दूसरे का रमेश। यशवंत डीलडौल का ऊँचा और बलिष्ठ था। उसके मुख पर संयम और स्वास्थ्य की कांति झलकती थी।

Aadhaar by Premchand Munshi

Part 28 of total 30 stories in series Mansarovar Part 3.
  

सारे गाँव में मथुरा का-सा गठीला जवान न था। कोई बीस बरस की उमर थी। मसें भीग रही थीं। गउएँ चराता, दूध पीता, कसरत करता, कुश्ती लड़ता था और सारे दिन बाँसुरी बजाता हाट में विचरता था। ब्याह हो गया था, पर अभी कोई बाल-बच्चा न था। घर में कई हल की खेती थी, कई छोटे-बड़े भाई थे।

Loading

Sponsored Links

Stats

  • 2k+ daily hits
  • 5k+ posts
  • 2.5+ million total hits
  • 30-40 monthly new posts

Monthly Newsletter

Join our mailing list to receive latest updates on fresh and popular stories. This is monthly subscription so you will get updates once in a month only.

You have Successfully Subscribed!